कन्याकुमारी में घूमने की जगह और पर्यटन स्थल – Kanyakumari Tourist Places In Hindi

Spread the love

कन्याकुमारी में घूमने की जगह और पर्यटन स्थल – Kanyakumari Tourist Places In Hindi

Kanyakumari ki yatra in hindi : कन्याकुमारी तमिलनाडु राज्य के सुदूर दक्षिण में बसा एक शहर है जो पर्यटन के लिए बहुत लोकप्रिय है। भारत के सबसे दक्षिण छोर पर बसा कन्याकुमारी भारत के आकर्षक स्थल में शामिल है। यह हिन्द महासागर, बंगाल की खाड़ी और अरब सागर का संगम स्थल है, जिसकी मनोरम छटा पर्यटकों को यहां खींच लाती है। भारत के सबसे दक्षिणी छोर पर बसा कन्याकुमारी शहर सदियों से कला, संस्कृति और सभ्यता का प्रतीक रहा है। भारत के पर्यटक स्थल के रूप में भी इसका अपना ही महत्च है।

दूर-दूर तक फैले समुद्र के विशाल लहरों के बीच कन्याकुमारी का सूर्योदय और सूर्यास्त का नजारा बेहद आकर्षक लगता हैं। समुद्र बीच पर फैली रंग बिरंगी रेतें इसकी सुंदरता में को अत्यधिक लुभावनी बना देती हैं। अगर आप कन्याकुमारी की सैर करने की योजना बना रहे हैं तो हम आपको बताने जा रहे हैं कि कन्याकुमारी में देखने योग्य कौन कौन से पर्यटन स्थल हैं।

1. कन्याकुमारी बीच देखने योग्य पर्यटन स्थल – Kanyakumari Beach Is Best Tourist Place In Hindi

कन्याकुमारी बीच सैर सपाटा करने के अलावा एक धार्मिक स्थल भी है जो प्रायद्वीपीय भारत के सबसे दक्षिणी सिरे पर स्थित है। कन्याकुमारी समुद्र  तट पर सूर्यउदय (sun rise) और सूर्यास्त (sun set) का नजारा अद्भुत होता है। इसे देखने के लिए विशेषरूप से चैत्र पूर्णिमा(अप्रैल माह की पूर्णिमा) पर लोगों की भारी भीड़  लगती है। कन्याकुमारी बीच एक चट्टानी समुद्र तट है और इस समुद्र में तीन सागरों अरब सागर, बंगाल की खाड़ी और हिंद महासागर का जल मिलता है। यह बीच रंग बिरंगी और मुलायम रेतों के लिए प्रसिद्ध है।

1.1 कन्याकुमारी में दर्शनीय स्थल उदयगिरी का किला – Udayagiri Fort Kanyakumari Best Tourist Place In Hindi

उदयगिरी किला तिरुवंतपुरम-नागरकोल राष्ट्रीय राजमार्ग पर  नागरकोल शहर से से 14 किमी दूर पुलियूरकुरुचि (Puliyoorkurichi) में स्थित है। उदयगिरी किले को राजा मार्तंड वर्मा ने बनवाया था और उनके शासनकाल में इस किले का नाम डे लेनॉय किला (De Lannoy’s Fort) था। इस किले में डे लेनॉय और उनकी पत्नी एवं बेटे की समाधि देखी जा सकती है। इसके अलावा किले के अंदर बंदूकों की ढलाई भी देखी जा सकती है। किले में के जैव विविधता पार्क भी है जहां हिरण, बत्तख, पक्षी सहित 100 से भी अधिक किस्मों के पेड़ लोगों के आकर्षण का केंद्र होते हैं।

1.2 कन्याकुमारी मंदिर लोगों के आकर्षण का केंद्र – Kanyakumari Temple Worth Seeing Tourist Place In Hindi

Contents

इस शहर का मुख्य आकर्षण है। इसे कन्याकुमारी भगवतीअम्मन (Kanyakumari Bhagavathiamman) मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। कुमारी अम्मन मंदिर मूल रूप से 8 वीं शताब्दी में पंड्या राजवंश के राजाओं द्वारा बनाया गया था। बाद में इसे चोल, विजयनगर और नायक शासकों द्वारा पुनर्निर्मित किया गया था। किंवदंतियों के अनुसार, देवी कन्याकुमारी और भगवान शिव के बीच विवाह नहीं हुआ था, जिसके परिणामस्वरूप देवी ने कुंवारी रहने का दृढ़ संकल्प लिया था। ऐसा माना जाता है कि शादी के लिए जो चावल और अनाज थे, वे बिना पके रह गए और वे पत्थरों में बदल गए। अनाज से मिलते जुलते पत्थर आज भी देखे जा सकते हैं।

1.3 कन्याकुमारी का मुख्य पर्यटन स्थल विवेकानन्द स्मारक शिला – Kanyakumari Me Ghumne Ki Jagah Vivekananda Rock Memorial In Hindi

कन्याकुमारी भारत आकर्षक स्थल विवेकानन्द स्मारक शिला, रामकृष्ण मिशन के संस्थापक श्री रामकृष्ण परमहंस के शिष्य, स्वामी विवेकानंद को समर्पित है। विवेकानंद रॉक मेमोरियल 1963 और 1970 के बीच लाल और नीले ग्रेनाइट में बनाया गया था। विवेकानंद रॉक मेमोरियल में दो मुख्य संरचनाएँ हैं – विवेकानंद मंडपम और श्रीपाद मंडपम। श्रीपाद मंडपम, श्रीपाद पराई( Shripada Parai) पर स्थित है जिसके ऊपर कन्याकुमारी देवी का पदचिह्न है। माना जाता है कि स्वामी विवेकानंद यहां मेडिटेशन करते थे।

1.4 कन्याकुमारी में घूमने लायक जगह पद्मानाभपुरम महल – Kanyakumari Me Ghumne Wali Jagah Padmanabhapuram Palace In Hindi

तमिलनाडु के प्रमुख आकर्षणों में से एक है। पद्मनाभपुरम पैलेस, कन्याकुमारी जिले के पद्मनाभपुरम गाँव में, ठाकले के पास, नागरकोइल से लगभग 15 किमी और तिरुवनंतपुरम से 55 किमी की दूरी पर स्थित है। पद्मनाभपुरम पैलेस दुनिया के शीर्ष दस महलों में से एक है। पद्मनाभपुरम पैलेस 6 एकड़ में फैला है और पश्चिमी घाट के वेलि हिल्स की तलहटी में स्थित है। इस पैलेस को 17 वीं शताब्दी में इराविपिल्लई इराविवर्मा कुलशेखर पेरुमल (Iravipillai Iravivarma Kulasekhara Perumal) ने बनवाया था। पद्मनाभपुरम पैलेस ज्यादातर लकड़ी से बना है जो केरल की पारंपरिक वास्तुकला शैली को प्रदर्शित करता है। जब भी आप कन्याकुमारी में घूमने आयें तो इसे जरुर देखें।

1.5 कन्याकुमारी का टूरिस्ट प्लेस अवर लेडी ऑफ रैनसम चर्च – Our Lady Of Ransom Church Kanyakumari Tourist Places In Hindi

यह चर्च गोथिक वास्तुकला का एक आकर्षक नमूना है जिसे 15वीं शताब्दी में बनाया गया था। अवर लेडी ऑफ रैनसम चर्च को मदर मैरी की याद में बनवाया गया था। चर्च के केंद्रीय टॉवर पर एक गोल्ड क्रास है। इसे देखने के लिए कन्याकुमारी की सैर करने वाले लोगों की भारी भीड़ जमा होती है क्योंकि यह वहां के प्रमुख टूरिस्ट डेस्टिनेशन में शामिल है।

1.6 कन्याकुमारी में घूमने लायक जगह कामराजार मणिमंडपम – Kamarajar Manimandapam Tourist Place Of Kanyakumari In Hindi

कामराजार मणिमंडपम (कामराज मणिमंडपम) को तमिलाडु के स्वतंत्रता और पूर्व मुख्यमंत्री श्री कामराज की याद में बनवाया गया है। कामराजार मणिमंडपम, महात्मा गांधी स्मारक के पास स्थित है। स्मारक उसी स्थल पर बनाया गया है, जहां विसर्जन से पहले श्रद्धांजलि देने के लिए उनकी राख जनता के लिए रखी गई थी। श्री कामराजार को एक लोकप्रिय रूप से जनता के बीच ‘ब्लैक गांधी’ के रूप में जाना जाता था।

1.7 तिरुचेंदुर मंदिर कन्याकुमारी का मुख्य पर्यटन स्थल – Tiruchendur Temple Tourist Place Of Kanyakumari In Hindi

तिरुचेंदुर अरुलमिगु सुब्रमण्यस्वामी मंदिर, तिरुचेंदूर शहर में स्थित है, जो कन्याकुमारी से लगभग 80 किमी, तिरुनेलवेली से 60 किमी और तूतीकोरिन से 40 किमी की दूरी पर स्थित है। यह मंदिर अरुपदईवेदु में से एक, भगवान मुरुगन या सैंथिलैंडवर का दूसरा निवास स्थान है। तिरुचेंदूर का मुरुगन मंदिर एक पहाड़ी के ऊपर स्थित है जिसे चंदना पहाड़ी के नाम से जाना जाता है। ऐसा माना जाता है कि भगवान मुरुगन ने सोरापद्मा नामक राक्षस को हराने के बाद इस स्थान पर भगवान शिव की पूजा की थी।

1.8 कन्याकुमारी का बेहतरीन टूरिस्ट प्लेस ओलाकरुवी झरना – Olakaruvi Falls Tourist Place Of Kanyakumari In Hindi

ओलाकुरुवी झरना तिरुवनंतपुरम से लगभग 80 किमी, नागरकोल से 39 किमी और कन्याकुमारी से 20 किमी की दूरी पर स्थित हैं। ओलकारूवी जलप्रपात पश्चिमी घाट की एक पहाड़ी के मध्य में स्थित है। यहां चट्टानी वन क्षेत्र के माध्यम से तलहटी से एक घंटे की ट्रेकिंग के द्वारा पहुंचा जा सकता है। इस झरने में दो छोटे-छोटे अन्य झरने हैं। एक पहाड़ी पर करीब 200 मीटर की ऊंचाई पर है और नीचे स्थित झरना बहुत लोकप्रिय पिकनिक स्पॉट है। अगर आप कन्याकुमारी में घूमने जायें तो इसे जरुर देखें।

1.9 सूनामी स्मारक कन्याकुमारी में देखने लायक जगह – Tsunami Monument Tourist Place Of Kanyakumari In Hindi

सुनामी स्मारक यहां का एक विशेष स्मारक है। यह उन लोगों को सम्मानित करने के लिए खड़ा किया गया है जिन्होंने कुछ साल पहले हुई दिल दहला देने वाली और विनाशकारी सुनामी के कारण भारत के दक्षिणी तट में अपनी जान गंवा दी थी। सुनामी स्मारक को देखने के लिए दुनिया भर से पर्यटक यहां आते हैं। इसके अलावा यहां सुनामी में अपने प्रियजनों को खो चुके लोग श्रद्धासुमन अर्पित करने भी आते हैं।

1.10 गांधी मेमोरियल कन्याकुमारी में पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र – Gandhi Memorial Tourist Place Of Kanyakumari In Hindi

महात्मा गांधी मेमोरियल या गांधी मंडपम कन्याकुमारी में हमेशा से पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। इस स्मारक का निर्माण राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सम्मान के लिए किया गया था। गांधी स्मारक को इस तरह से बनाया गया है कि हर साल 2 अक्टूबर को दोपहर के समय सूरज की किरणें ठीक उसी जगह पर पड़ती हैं, जहां विसर्जन से पहले गांधीजी की राख रखी गई थी।

2. कन्याकुमारी कब जाएँ – When To Go Kanyakumari In Hindi

कन्याकुमारी जाने के लिए सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च है

अक्टूबर से फरवरी:

समुद्र तट पर दर्शनीय स्थलों और अन्य वाटर एक्टिविटी का आनंद लेने के लिए अक्टूबर को कन्याकुमारी जाने के लिए एक सही समय के रूप में वर्णित किया जा सकता है। हालांकि इस समय दिन के दौरान हवा में कुछ नमी हो सकती है, लेकिन शाम के ठंडी समुद्री हवा एक महान सूर्यास्त के दृश्य को मनोरम बनाती हैं। इसके अलावा, यहाँ इस महीने के दौरान है, प्रसिद्ध केप त्योहार (Cape festival) मनाया जाता है जो बहुत से लोगों को कन्याकुमारी आने के लिए आकर्षित करता है। नवंबर में कन्याकुमारी में सर्दियों के मौसम की शुरुआत होती है तब यहाँ आर्द्रता नहीं होती है और मौसम आनदमय होता है। दिसंबर से फरवरी सबसे अधिक पर्यटन का सीजन है जब दिन और रात दोनों का तापमान मध्यम होता है। चूंकि यह सर्दियों का मौसम है, इसलिए तापमान 30 डिग्री सेल्सियस से अधिक नहीं बढ़ता है।

मार्च से मई:

मार्च में तापमान कुछ हद तक सुखद रहता है लेकिन कन्याकुमारी में अप्रैल से मई तक गर्मी के महीनों में तापमान 35 डिग्री सेल्सियस तक पहुँच जाता है। इस मौसम में यहाँ आर्द्रता भी अधिक होती है। लेकिन शाम के समय ठंडी समुद्री हवा लोगों के लिए सुखद अनुभव होती है। इन महीनों में आप कन्याकुमारी में सर्फिंग और तैराकी का सबसे अच्छा आनंद ले सकते हैं क्योंकि समुद्र शांत रहता हैं।

जून से सितंबर:

ये कन्याकुमारी में मानसून के महीने होते हैं। यहाँ जून से सितंबर के महीनों में बारिश होती है क्योंकि कन्याकुमारी में जुलाई और अगस्त के महीनों में भारी वर्षा होती है। आप मानसून के इन महीनों के दौरान इस खूबसूरत मौसम का मजा अपनी कन्याकुमारी की यात्रा में ले सकते हैं साथ ही आप कन्याकुमारी के मानसून सीजन में इसके हरे-भरे प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद ले सकते हैं। एक ऑफ सीजन होने के नाते, आप इस दौरान कन्याकुमारी के होटल और रेस्तरां में आकर्षक छूट का आनंद ले सकते हैं।

3. कन्याकुमारी कैसे पहुंचे – How To Reach Kanyakumari In Hindi

Leave a Comment

x