पर्यावरण पर निबंध essay on environment in hindi

Spread the love

essay on environment in hindi पर्यावरण पर निबंध: पर्यावरण वास्तविक दुनिया है जिसमें पृथ्वी पर जीवित और निर्जीव प्रकार के परिवेश हैं। यह एक विशेष भौगोलिक क्षेत्र को भी संदर्भित करता है। पर्यावरण में पेड़-पौधे, हवा, पानी, जानवर, इंसान और अन्य जीवित चीजें मौजूद हैं। वायुमंडलीय प्रक्रिया, भू-आकृति प्रक्रिया, जल विज्ञान प्रक्रिया पर्यावरण को प्रभावित करने वाले कारक हैं। जैविक प्रक्रिया में जीवित जीव शामिल होते हैं। जीवित जीव पर्यावरण से दृढ़ता से जुड़े हुए हैं जिसे पारिस्थितिकी के रूप में जाना जाता है। पर्यावरण पर निबंध essay on environment in hindi

essay on environment in hindi
essay on environment in hindi

पर्यावरण पर छोटे तथा बड़े निबंध (Short and Long Essay on Environment in Hindi)

निबंध – 1 (300 शब्द)

पर्यावरण निबंध | बच्चों और छात्रों के लिए पर्यावरण पर निबंध

परिचय पर्यावरण का क्या अर्थ है?

पर्यावरण एक प्रकृति है जो पृथ्वी पर हमारे जीवन का पोषण करती है। हम अपने जीवन में जो कुछ भी महसूस करते हैं, सांस लेते हैं और खाते हैं वह सब पर्यावरण में आता है। जैसे भूमि, पौधे, जल, वायु, सूर्य का प्रकाश, वन, भोजन, नदियां और अन्य प्राकृतिक चीजें पर्यावरण के भीतर आती हैं।

पृथ्वी पर उचित संतुलन बनाए रखने के लिए पर्यावरण का एक पूरा चक्र होता है। एक स्वस्थ वातावरण पृथ्वी पर सजीव और निर्जीव वस्तुओं को उगाने और पोषित करने में सहायता करता है। हमारे स्वस्थ जीवन का अस्तित्व उस पर्यावरण पर निर्भर करता है जो प्रकृति के संतुलन को बनाए रखता है। इसलिए स्वस्थ और शांतिपूर्ण जीवन जीने के लिए अपने पर्यावरण को स्वच्छ रखना बहुत आवश्यक है। जीवन के अस्तित्व के लिए हमारे पर्यावरण को बचाना और प्रकृति के संतुलन को बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

“हम दुनिया की मदद करने के लिए पैदा हुए हैं, इसे नष्ट करने के लिए नहीं”

पर्यावरण पर प्रभाव विश्व पर्यावरण दिवस तथा पर्यावरण सुरक्षा के उपाय पर्यावरण का हमारे जीवन में क्या महत्व है? essay on environment in hindi


चूँकि मानवीय गतिविधियाँ पर्यावरण पर कई प्रभाव डालती हैं। इसलिए एक पर्यावरण सुरक्षित और स्वच्छ होना चाहिए, इसके बिना हम भविष्य में अपने जीवन के अस्तित्व की कल्पना नहीं कर सकते। जल प्रदूषण अपरिष्कृत उद्योग अपशिष्ट और अन्य असुरक्षित तत्वों को पानी में छोड़ने के कारण होता है।

वाहनों और उद्योगों से हानिकारक धुएं के अनियंत्रित निर्वहन के कारण हवा प्रदूषित है। मृदा और ध्वनि प्रदूषण भी हमारे पर्यावरण को प्रभावित करता है। ग्रीनहाउस गैसों के अत्यधिक स्राव ने पृथ्वी की सतह के तापमान को बढ़ा दिया। ग्लोबल वार्मिंग के पीछे यही कारण है। भविष्य में पृथ्वी पर हमारे जीवन का अस्तित्व खतरनाक हो जाएगा।

आजकल, हम अपने शरीर को जो भोजन दे रहे हैं वह स्वस्थ नहीं है क्योंकि यह कृत्रिम उर्वरकों के बुरे प्रभावों से प्रभावित है। ये उर्वरक सूक्ष्मजीवों के कारण होने वाले रोगों से लड़ने के लिए हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को कम करते हैं। इसलिए हम किसी भी समय बीमार पड़ सकते हैं, भले ही हम स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखें। जल और वायु प्रदूषण के कारण कई स्वास्थ्य रोग और विकार बढ़ रहे हैं। पर्यावरण प्रदूषण हमारे दैनिक जीवन के कई कारकों पर नकारात्मक प्रभाव डाल रहा है। ये सामाजिक, आर्थिक और शारीरिक रूप से प्रभावित कारक हैं।

पर्यावरण में मानवीय जिम्मेदारी पर्यावरण प्रदुषण एक व्यापक समस्या पर्यावरण जागरूकता पर निबंध essay on environment in hindi


पर्यावरण को नष्ट करने वाली उन्नत प्रौद्योगिकियां जिसके परिणामस्वरूप प्रकृति का असंतुलन होता है। रोजाना औद्योगिक कंपनियों से निकलने वाला हानिकारक धुआं प्राकृतिक हवा को प्रदूषित कर रहा है। यह हवा इंसानों, जानवरों और अन्य जीवित चीजों के स्वास्थ्य को प्रभावित करती है क्योंकि वे इसे रोजाना सांस लेते हैं।

अपनी व्यस्त और उन्नत जीवन शैली में हमें प्रतिदिन इस प्रकार की छोटी-छोटी बुरी आदतों का ध्यान रखना चाहिए। जरूरी है कि पर्यावरण के विनाश में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए सभी को थोड़ा सा प्रयास करना चाहिए। हमें अपने पर्यावरण को सुरक्षित और प्रदूषण मुक्त बनाने की पहल करनी चाहिए।

हमें अपने पर्यावरण को स्वच्छ और सुरक्षित बनाने के लिए कुछ नियमों का पालन करना चाहिए। स्वस्थ वातावरण से ही हम अपने जीवन में शांति और निर्मल वातावरण के साथ शुद्ध वायु, हरियाली और जल प्राप्त कर सकते हैं। अच्छा वातावरण हमारे बच्चों के जीवन में खुशियाँ लाता है। एक वातावरण समाज या व्यक्ति के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

ध्वनि प्रदूषण के खिलाफ कानून बनाकर पर्यावरण की गुणवत्ता बढ़ रही है। साथ ही, सार्वजनिक परिवहन के उपयोग को प्रेरित करना। हमें पॉली बैग का उपयोग, सड़क या सार्वजनिक क्षेत्रों में कचरा फेंकना बंद कर देना चाहिए। हम पुरानी चीजों के पुनर्चक्रण को अपना सकते हैं, मरम्मत कर सकते हैं और बिना फेंके टूटी चीजों का उपयोग कर सकते हैं। हम रिचार्जेबल बैटरी या क्षारीय बैटरी, और फ्लोरोसेंट रोशनी का उपयोग कर सकते हैं। हम वर्षा जल संरक्षण को भी अपना सकते हैं, पानी की बर्बादी को कम कर सकते हैं, ऊर्जा संरक्षण, बिजली की कम खपत आदि को भी अपना सकते हैं।

स्वस्थ वातावरण बनाने के लिए लोगों को वृक्षारोपण में भाग लेना चाहिए। हम तेज संगीत सुनकर ध्वनि प्रदूषण कर रहे हैं जो पर्यावरण पर प्रभाव डालता है। पर्यावरण को बचाने के लिए जागरूकता फैलाना और प्रेरक भाषण देना ही काफी नहीं है। हमें पर्यावरण की रक्षा के लिए एक मजबूत पहल करनी चाहिए।

पर्यावरण में समस्याएं पर्यावरण प्रदुषण का हमारे जीवन पर प्रभाव वन और पर्यावरण पर निबंध पर्यावरण से क्या क्या लाभ है? essay on environment in hindi


जीवनशैली में बदलाव और उन्नत तकनीक के कारण पर्यावरण में निम्नलिखित समस्याएं उत्पन्न होती हैं।

प्रदूषण एक प्रमुख समस्या है जो हवा, पानी और जमीन में हानिकारक पदार्थों के निर्माण के कारण होती है।
मरुस्थलीकरण भूमि के मरुस्थलीय क्षेत्रों में परिवर्तित होने के कारण भी समस्याएँ पैदा करता है जब मिट्टी शुष्क और कमजोर हो जाती है।
अत्यधिक आग, शिकार, विकास और अन्य कार्यों के कारण उत्पन्न होने वाली समस्या का कारण जानवरों का विलुप्त होना है।
आवास हानि एक समस्या है जो घरों और उद्योगों के निर्माण के लिए प्राकृतिक क्षेत्रों के विनाश के कारण होती है।
वनों की कटाई पेड़ों के काटने, जंगलों के मरुस्थलीकरण, आग और प्रदूषण के कारण होती है।
पर्यावरण बचाएं
पर्यावरण की रक्षा करना इतना आसान नहीं है, इसमें बहुत सारी ऊर्जा, समय और प्रयास लगेगा। स्वच्छ और स्वस्थ वातावरण बनाए रखने के लिए सभी को आगे आना चाहिए और मिलकर काम करना चाहिए। हम निम्नलिखित तरीकों से पर्यावरण की रक्षा कर सकते हैं:

लोगों को प्रदूषण नियंत्रण पर सख्त कानूनों का पालन करना चाहिए।
प्लास्टिक जैसी पर्यावरण के अनुकूल सामग्री के उपयोग को नहीं अपनाया जाना चाहिए।
पुराने और अपशिष्ट उत्पादों के पुनर्चक्रण को अपनाया जाना चाहिए।
पानी की बर्बादी को कम कर पानी बचाएं।
वनों की कटाई के लिए एक शून्य-सहिष्णुता नीति लागू की जानी चाहिए।
जानवरों के शिकार पर रोक लगनी चाहिए।
कार्बन डाइऑक्साइड और अन्य ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को नियंत्रित किया जाना चाहिए।
ऊर्जा संरक्षण और बिजली का कम उपयोग।
ऐसी तकनीकों का आविष्कार करें जो हमारे पर्यावरण के लिए हानिकारक न हों।
पर्यावरण निबंध निष्कर्ष
पर्यावरण प्रदूषण हमारे दैनिक जीवन को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर रहा है। उन्नत प्रौद्योगिकियों के आविष्कार मानव जीवन में सहजता प्रदान कर रहे हैं। लेकिन, शोध के आविष्कार हमारे पर्यावरण के अस्तित्व के लिए खतरा पैदा करते हैं। पर्यावरण के प्रदूषण से बहुत सारी स्वास्थ्य बीमारियाँ आती हैं जो मनुष्य को जीवन भर भुगतनी पड़ सकती हैं। पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व को बनाने के लिए इस पर गंभीरता से विचार करना चाहिए। यह एक विश्वव्यापी समस्या है जिसे सभी के निरंतर प्रयासों से हल किया जा सकता है।

सभी को आगे आना चाहिए और पर्यावरण सुरक्षा अभियान में भाग लेना चाहिए। विश्व पर्यावरण दिवस दुनिया भर में हर साल 5 जून को मनाया जाने वाला एक पर्यावरण सुरक्षा कार्यक्रम है। लोग और कई संगठन हमारे पर्यावरण को नष्ट करने वाले कारकों के बारे में जानने के लिए इस दिन को मनाते हैं। इस दिन को मनाने के पीछे का मकसद दुनिया भर के लोगों में जागरूकता फैलाना है। उन्हें पर्यावरण की रक्षा के लिए सकारात्मक कदम उठाने चाहिए। इसलिए पर्यावरण को बचाना हर इंसान की जिम्मेदारी है। ताकि आने वाली पीढ़ी प्रकृति के उपहारों का आनंद उठा सके।

पर्यावरण निबंध पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न essay on environment in hindi
प्रश्न 1।
पर्यावरण का सही अर्थ क्या है?

उत्तर:
पारिस्थितिकी तंत्र जिसमें सभी पौधे, जानवर, पक्षी, सरीसृप, कीड़े, जल निकाय, मछलियां, मनुष्य, पेड़, सूक्ष्मजीव और कई अन्य शामिल हैं, पर्यावरण का हिस्सा हैं। इसके अलावा, ये सभी पर्यावरण का निर्माण करते हैं।

प्रश्न 2।
पर्यावरण के तीन प्रकार कौन से हैं? पर्यावरण कितने प्रकार के होते हैं?

उत्तर:
पर्यावरण के तीन प्रकारों में भौतिक, सामाजिक और सांस्कृतिक वातावरण शामिल हैं। इसके अलावा, विभिन्न वैज्ञानिकों ने विभिन्न प्रकार और वातावरण की संख्या को परिभाषित किया है। पर्यावरण पर निबंध essay on environment in hindi

Leave a Comment

x