कर्नाटक मैसूर के पर्यटन स्थल हिंदी में | mysore visiting places in Hindi

Spread the love

मैसूर महल | मैसूर में घूमने की जगह | मैसूर का इतिहास | मैसूर पैलेस | Mysore zoo | Mysore tourism | Mysore palace | Mysore visiting places


दोस्तों हम इस ब्लॉग में आपको मैसूर कैसे पहुंचे मैसूर घूमने का खर्चा मैसूर का इतिहास मैसूर कब जाएं और भी बहुत कुछ मैसूर के बारे में आप इस ब्लॉग में जानेंगे।

• मैसूर | मैसूर सिटी – मैसूर कर्नाटक मे स्थित बंगलोर के बाद सबसे बडा शहर है। यह सिर्फ कर्नाटक केेेेेेे लिए ही नहीं पूरे भारत का पर्यटन स्थल है। यह एक ऐतिहासिक शहरों में शामिल है। यहां का सबसे बड़ा आकर्षषण मैसूर महल है।यह बेंगलुरु से 150 किलोमीटर दूर पर स्थित है।

• मैसूर कैसे पहुंचे how to reach Mysore –

 
• सड़क मार्ग – मैसूर के लिए हर बड़े शहर से बस सेवा मौजूद है और मैसूर बड़ा शहर होने के कारण सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। साथ ही साथ कई निजी कंपनियां यहां पर अपनी सेवा देती हैं।
        आप ksrtc की ऑनलाइन साइट से बस बुकिंग भी कर सकते।
बेंगलुरु से दूरी -१५० किलोमीटर
• रेल मार्ग – मैसूर एक बड़ा रेलवे जंक्शन है यहां बेंगलुरु से और बड़े शहरों से कई ट्रेनें चलती हैं जैसे की शताब्दी ट्रेन। आप यहां भारत के कई बड़े शहरों से आसानी से पहुंच सकते हैं।
• हवाई मार्ग – यहां से सबसे बड़ा हवाई अड्डा बेंगलुरु हवाई अड्डा है यहां से 140 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यहां से रोजाना फ्लाइट ही चलती है आप यहां आसानी से पहुंच सकते हैं।

मैसूर के टॉप प्लेसेस | मैसूर पैलेस | मैसूर का इतिहास |  मैसूर जू | near Mysore places | Mysore famous places | मैसूर में फेमस जगह

 
• मैसूर पैलेस | Mysore palace | मैसूर महल – मैसूर महल लिया है यहां का सबसे बड़ा पर्यटन स्थल है। यह मिर्जा रोड पर स्थित भारत के सबसे बड़े महलों में शुमार है यह मेन सिटी में ही पड़ता है। इसमें मैसूर के वूढ़ेयार महाराज रहते थे।
       यह महार बहुत ही आकर्षक तरीके से बनाया गया है यहां का सिहासन भी देखने लायक हैऔर यह काफी महंगे रत्नों से बना हुआ अब महल की देखरेख पुरातत्व विभाग करता है।
Entry fees – 70₹ (for adults)
समय – सुबह 10 से 5.30  जूते-चप्पल अंदर ले जाना मना है। कैमरा ले जाना मना है । महल रविवार , राष्ट्रीय अवकाश के दिन शाम 7-8 बजे तक और दशहरा के दिन शाम 7 बजे-रात 9 बजे तक रोशनी से जगमगाता है।

• जगमोहन महल | Jagmohan Mahal – यह मैसूर के पुराने इमारतों में से एक है । यह एक तीन मंजिला इमारत है यह बस स्टैंड से केवल 10 मिनट की दूरी पर स्थित है। इस्माइल का निर्माण यहां के राजा ने 1861 में करवाया था।
समय- सुबह 8.30 से 5.30 तक । यहां कैमरा ले जाना मना है।
एंट्री टिकट १५०₹

• वृंदावन गार्डन | Vrindavan garden – यह मेन सिटी से 21 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यह बहुत ही बढ़िया पार्क है यहां पर बगीचे हैं फाउंटेन है और यह नदी किनारे स्थित है इसके पास में ही एक डैम भी बना हुआ है।

       यहां पर आप बोटिंग भी कर सकते हैं जिसका एक आदमी का खर्चा ₹40 होता है।
टिकट – ₹20

 

• कृष्णराज सागर बांध | Krishna Raja Sagar dam – k.r.s. बांध मैसूर से 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित उत्तर पश्चिम में बना हुआ है। इस बांध की लंबाई 8600 फिट है और ऊंचाई 130 फुट है।
दूरी किलोमीटर मैसूर से 12 किलोमीटर
• चामुंडेश्वरी मंदिर | चामुंडेश्वरी पहाड़ | चामुंडेश्वरी हिल – 
यह मेन मैसूर सिटी से 13 किलोमीटर की दूरी पर दक्षिण में स्थित है। यह यहां का मेन पर्यटक स्थलों में से एक है। यह चामुंडेश्वरी मंदिर है यह दुर्गा मां को समर्पित मंदिर है।
      मंदिर के मुख्य गर्भ में दुर्गा मां की सोने की मूर्ति बनी हुई है। यह मंदिर द्रविड़ वास्तुकला का एक अच्छा उदाहरण बनता है।यह कुल सात मंजिला ऊंची मंदिर है इस मंदिर की कुल ऊंचाई 40 मीटर है।इस मंदिर के पीछे महाबलेश्वर मंदिर है जो कि 1000 साल से भी ज्यादा पुराना है। मंदिर के पास महिषासुर की बड़ी प्रतिमा है। यहां पर आपको ग्रेनाइट से बने नंदीबैल के भी दर्शन होते हैं।
        यहां पर जाते वक्त आपको ऊंचाई पर से पूरा मैसूर का नजारा देखने को मिलेगा।
 

• सैंट फिलोमिना चर्च | Saint Philomena Church – 1933 में बनाया चर्च भारत के सबसे बड़े चर्चाओं में से एक माना जाता है। यह मैसूर से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित। इसकी 175 फीट 2 मीनार काफी दूर से दिखाई देते हैं। यहां ईसा मसीह के जन्म से लेकर उनके पुनर्जन्म तक की पेंटिंग्स बनाई हुई है। इस समय इस चर्च को सेंट जोसेफ चर्च के नाम से जाना जाता है।

समय – 5:00 से 8:00 बजे तक

• जीआरएस फेंटेसी पार्क | GRS fantasy park – यहां बना हुआ पार्क मैसूर का एकमात्र एम्यूज़मेंट वाटर पार्क है यह 30 एकड़ में फैला हुआ है यहां सभी उम्र के लोग आकर्षित हो सकते हैं | 

                   यहां का मुख्य आकर्षण पानी का खेल है रोमांचक भरा यह वाटर पार्क है बच्चों के लिए अलग से वाटर पार्क है यह पार्क मैसूर रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है आपको यहां पर शाकारी खाने के लिए शाकारी रेस्टोरेंट्स भी बने हुए हैं आपको यहां बाहर से खाना लाना अलाउड नहीं है।
समय सुबह 10:30 से शाम के 6:00 बजे तक। 
मैसूर रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर

• मैसूर चिड़ियाघर | Mysore zoo – यहां का जो चिड़ियाघर है यह दुनिया के सबसे पुराने चिड़ियाघर में से एक माना जाता है इसका निर्माण १८९२ में में हुआ था।यहां दुनिया भर के 40 से ज्यादा देशों से लाए गए जानवरों को रखा गया है यहां के बगीचे को भी काफी खूबसूरती से सजाया गया है । 

           यहां का मुख्य आकर्षण शेर है इसके साथ ही यहां पर हाथी सफेद मोर गिरा ही घोड़े गेंडे गोरिल्ला यहां देखे जा सकते हैं इस चिड़ियाघर में करंजी झील भी है यहां की जेल में काफी दूर से प्रवासी पक्षी आते रहते हैं इसके अलावा यहां पर एक जैविक उद्यान भी बना हुआ है भारत के करीब ८५ प्रजातियां रखी हुई है।
छुट्टी मंगलवार
समय सुबह 8:00 से शाम 5:30 बजे तक

• मैसूर का बजट | मैसूर घूमने का खर्चा | मैसूर टूर | Mysore tour plan | Mysore guide –

अगर आप घूमने आ रहे हैं तो आपको यहां के लिए 2 दिन काफी अगर आप और ज्यादा रहना चाहते हैं तो रह सकत हैं।
एक आदमी का 2 दिन का खर्चा।
• रहने का | hotel – 2000₹
• खाने का | food – 1000₹
• घूमने का | conveyance -1000₹
 
यदि आपको हमारा लिखा हुआ ब्लॉग पसंद आता है तो फिर से शेयर और लाइक जरुर कीजिए और साथी हमारे दूसरे ब्लॉग भी जरूर पढ़िए।
 

Leave a Comment

x